Leading Hindi News Portal from Central India
जानो दुनिया

उज्जैन का पौराणिक इतिहास और वर्तमान

ऐतिहासिक दृष्टि से उज्जैन के प्राचीन-अतीत वर्णन श्रृंखलाबद्ध नहीं हैं तथापि वैदिक काल में 'अवन्तिका' नाम मिलता है। ब्राह्मण ग्रंथों और उपनिषदों में भी उल्लेख है। महाभारत काल में तो 'विंद' और 'अनुविंद' का राज्य यहां रहा है। इसी प्रकार भागवत आदि 18 पुराणों में उज्जैन की बहुभावपूर्वक, सर्व तीर्थों से श्रेष्ठता और महत्ता तथा अनेक पौराणिक घटनाओं का विस्तारपूर्वक रोचक वर्णन ‍किया हुआ है। पौराणिक भद्रसेन, गंधर्वसेन, रतिदेव, इंद्रघुम्न के नाम को उज्जैन से संबंधित होना कौन नहीं जानता? इसके अनंतर-मगधवंशीय प्रद्योत का राज्य यहां था, वे भगवान बुद्ध के समकालीन थे। उस समय उज्जैन का महत्व बहुत बढ़ा हुआ था।
शुंगों की सत्ता समाप्त होने पर काण्वों (ई.स.पू. 63.27) की, बाद आंध्रभृत्य, सातवाहन (ई.स.पू. 27 से 19) यथा क्षत्रप राजवंश ई.सं. 119 की सत्ता रही हैं। इसके अनंतर पौराणिक वर्णन हैं कि गंधर्वसेन ने राज्य किया, इसके बाद भर्तृहरि ने, भर्तृहरि के राज परित्याग करने पर ईसवीं सन् के 57 वर्ष पूर्व प्रथम शताब्दी में विक्रमादित्य का शासन यहां आरंभ हुआ। विक्रमादित्य के विषय में बहुत मतभेद हैं। इतिहासज्ञ विक्रमादित्य का ठीक निश्चय नहीं कर सके हैं, परंतु प्रथम शतक विक्रम शासन था, यह निर्विवाद है, चाहे 'विक्रम कौन था?' यह संदिग्ध हो; (अब पद्मभूषण पं. सूर्यनारायण व्यास के अनथक प्रयासों से 'विक्रम' का काल निर्धारण भी हो गया है एवं उन्हीं के प्रयासों से उज्जयिनी में विक्रम विश्वविद्यालय भी बना।) परंतु विक्रमादित्य के शौर्य, ओदार्य, पांडित्य, न्याय, परायणता, महत्ता आदि के विषय में सारा जगत श्रद्धा से उसकी स्मृति में मस्तक झुकाता है। संवत के प्रवर्तक के नाते अथवा महापुरुष के नाते सर्वदा विक्रमादित्य का नाम अमर-की‍र्ति लिए हुए ही रहेगा। इसी के शासनकाल में उज्जैन स्वर्गीय-सुभग सुन्दरता-पूर्ण रही है। महाकवि कालिदास की प्रतिभा का चमत्कार इसी समय प्रकट हुआ है। सर्वप्रथम विश्व को शाकुंतल नाटक श्रेष्ठ का प्रदान करने वाला और सर्वप्रथम इसी नाटक द्वारा भारत की महत्ता के सामने आदर से पाश्चात्यों के मस्तकों को नत करने वाला विश्व-कवि कविता-कान्त कालिदास इस पावन नगरी की विक्रम-सत्ता का एक महत्व रत्न रहा है और वैभव यहां की अपनी वस्तु रही हैं। विक्रमादित्य के पश्चात का थोड़ा समय इतिहास के अंधकार में है, अज्ञेय है। तदनंतर ई.सं. 100 के लगभग शकवंशीय चष्टन ने शासन किया। शककालीन उज्जैन भी व्यापार और रत्नों से भरपूर और प्रसिद्धि प्राप्त था। शक काल की समाप्ति पर ई.सं. 400 के करीब पटने के गुप्तवंशीय राजाओं के हाथ में सत्ता गई। गुप्तवंशीय राज्य का उज्जैन एक सूबा था। उज्जैन के द्वितीय विक्रमोपाधिधारी स्कंदगुप्त ई. 455-467 तथा द्वितीय कुमारगुप्त विक्रम ने 473-477 में शासन किया। 
22 April, 2016
Share |