Leading Hindi News Portal from Central India
देश

जामिया हिंसा पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा दिल्ली में रुके हिंसा

नई दिल्ली : नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में हिंसा का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा. रिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने जामिया और अलीगढ़ का पूरा घटनाक्रम चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एसए बोबडे के समक्ष उठाया. उन्होंने कहा, 'हम आपसे अपील करते हैं कि इस मामले में पुलिस की बर्बरता पर सुप्रीम कोर्ट स्वतः संज्ञान ले.' इंदिरा जयसिंह ने कहा कि हमारी मांग है कि घायल छात्रों को मुआवजा मिले. उन्हें उपचार की उचित सुविधा मिले. उनसे जबरन हॉस्टल खाली कराने पर रोक लगाई जाए. छात्रों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई को रद्द किया जाए. याचिका पर सीजेआई बोबडे ने कहा, 'दिल्ली में हिंसा रुकनी चाहिए वो चाहे जो कर रहा हो.' सीजेआई ने कहा, 'हम यह नहीं कह रहे कि इसका जिम्मेदार कौन है. हम यह नहीं कह रहे हैं कि पुलिस या छात्र निर्दोष हैं, लेकिन हिंसा रुकनी चाहिए.' सीजेआई ने कहा कि हम इस मामले को सुनेंगे लेकिन हमें नहीं लगता कि हम बहुत कुछ कर पाएंगे. पुलिस को लॉ एंड ऑर्डर देखना है.'

16 December, 2019
Share |