Leading Hindi News Portal from Central India
भोपाल

राज्यपाल के अभिभाषण पर विपक्ष की टोकाटाकी,कर्जमाफी को लेकर लगे नारे


भोपाल। मौजूदा बीजेपा सरकार के आखिरी बजट सत्र के पहले दिन विपक्ष ने अपने तेवर दिखा दिए। राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के अभिभाषण के साथ शुरु हुए बज़ट सत्र के पहले दिन ही विपक्ष ने अभिभाषण में शामिल बिंदुओं पर आपत्ति दर्ज कराई। राज्यपाल ने अपने अभिभाषण में राज्य सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुएकहा कि प्रदेश में सात साल से नई शराब दुकान नहीं खोली गई।
नर्मदा नदी के किनारे 66 दुकानें बंद की गई हैं। इस पर विपक्ष ने टोकते हुए कहा कि अब तो गली-गली में शराब बिक रही है। पानी के लिए तो 10-10 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है पर शराब सहज उपलब्ध हो जाती है। इसी तरह कुछ अन्य मौके पर भी कांग्रेस के सदस्यों ने टोका-टाकी की और आरोप लगाया कि अभिभाषण में सरकार ने झूठे आंकड़े पेश करवाए हैं।
लगभग आधा घंटे के अभिभाषण में राज्यपाल ने चुनिंदा अंशों को ही पढ़ा। उन्होंने सरकार का रोडमैप बताते हुए कहा कि पिछले 14 साल में प्रदेश को अग्रणी प्रदेश बनाने के प्रयास किए हैं। यह एक पड़ाव भर है, मंजिल नहीं। हमारा पूरा प्रयास है कि विकास के मामले में हम देश में नंबर एक पर आएं और दुनिया के बेहतरीन राज्यों के समकक्ष हों। राज्यपाल ने केंद्र सरकार से मिले सहयोग को सराहा और प्रदेश सरकार का रोडमैप भी बताया।
राज्यपाल ने बताया कि सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर वेट की दर घटाई और प्रति लीटर डेढ़ रुपए के अतिरिक्त कर को समाप्त कर दिया। जीएसटी लागू होने से करदाताओं को राहत मिली है। प्रदेश के 98 फीसदी करदाता जीएसटी के दायरे में आ चुके हैं। वाणिज्यिक कर की चौकियों को समाप्त किया गया।
कृषि क्षेत्र में लगातार प्रगति हो रही है। पांच बार कृषि कर्मण पुरस्कार मिल चुका है। 10 लाख 50 हजार से ज्यादा किसानों को डेढ़ हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का भुगतान भावांतर योजना में किया गया है। चना, मसूर, सरसों को योजना के दायरे में लाया गया है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत खरीफ 2017 का प्रदेश का दावा देश का सबसे बड़ा होगा।
भावांतर योजना में राशि देने, बीमा सहित अन्य योजना की बात पर फिर कांग्रेस विधायक खड़े हो गए और विरोध दर्ज कराया। अभिभाषण की समाप्ति पर कांग्रेस सदस्यों ने पर्चे लहराते हुए कर्जमाफी को लेकर नारेबाजी की।

26 February, 2018
Share |