Leading Hindi News Portal from Central India
भोपाल

शहरों में गहराया जल संकट,विभाग ने की 122 करोड़ की मांग


भोपाल। गर्मी ने अभी भले ही प्रदेश में दस्तक नहीं दी हो। लेकिन कम बारिश के कारण पीने के पानी का संकट अभी से खड़ा होने लगा है। आलम ये है कि कई शहरों में दो से तीन दिन छोड़कर पानी का सप्लाई हो रहा है। वहीं चुनावी साल में खड़े हुए जलं संकट से राज्य सरकार की नींद उड़ गई है। नगरीय प्रशासन विभाग ने शहरों में पानी मुहैया कराने के लिए आपात कार्ययोजना तैयार की है और इसके लिए राज्य सरकार से 378 नगरीय निकायों के लिए 122 करोड़ की मांग की है।
भोपाल में शहरों में पानी की किलल्त का बडा़ कारण बीते दो सालों से प्रदेश में मानसून की कमजोर आवक है। आलम ये है किपेयजल स्त्रोत के सूखने की शिकायतें लगातार बढ़ रही हैं। नगरीय विकास मंत्री माया सिंह ने आज भोपाल में बैठक कर अफसरों को सभी निकायों में माइक्रो लेवल प्लान तैयार करने को कहा है। हालिया जानकारी के मुताबिक नगर निगमों को 66 करोड़ 60 लाख, नगर पालिकाओं को 32 करोड़ 2 लाख तथा नगर परिषद क्षेत्रों को 23 करोड़ 40 लाख रूपये की राशि दिया जाना प्रस्तावित है। इसके साथ ही 23 जिला कलेक्टरों द्वारा 120 निकायों में राहत मद से पेयजल परिवहन हेतु 19 करोड़ 40 लाख रूपये की राशि के प्रस्ताव प्राप्त हुए है।c

06 February, 2018
Share |