Leading Hindi News Portal from Central India
देश

केंद्र का दिवाली फटाका,जेटली ने जीएसटी में बड़े बदलाव का किया एलान


नई दिल्ली। जीएसटी की खामियों को लेकर बढ़ रही नाराजगी दूर करने को लेकर केंद्र सरकार ने बड़े बदलाव का एलान कर दिया है। दिल्ली में हुई जीएसटी काउंसिल की बैठक में वित्त मंत्री जयंत मलैया ने बड़े बदलाव का फैसला किया। जीएसटी काउंसिल के फैसलों को दिवाली से पहले केंद्र सरकार का फटाका माना जा रहा है। नये फैसलों के मुताबिक जो बड़े बदलाव होंगे। उनमें...
ज्वैलरी कारोबार को मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट यानी पीएमएलए के दायरे से बाहर होंगे।
जीएसटी में बदलाव के बाद अब 2 लाख रुपये तक की ज्वैलरी की खरीदारी पर पैन देना जरूरी नहीं होगा।
पहले 50 हजार रुपये से ज्यादा की खरीदारी पर PAN देना अनिवार्य था।
अब हर 3 महीने में रिटर्न फाइल करने की व्यवस्था पर सहमति बन गई है।
1.5 करोड़ रुपये टर्नओवर पर हर 3 महीने में रिटर्न भरनी होगी. कंपोजिशन स्कीम की सीमा 75 लाख से बढ़ाकर 1 करोड़ रुपये कर दी गई है।
निर्यातकों को 6 महीने के लिए राहत, 6 महीने बाद हर एक निर्यातक को ई-वॉलेट मिलेगा।ई-वॉलेट सिस्टम 1 अप्रैल 2018 से पूरी तरह लागू हो जाएगा।
एक करोड़ से ज्यादा टर्नओवर और एसी चार्ज वाले रेस्टोरेंट जो 18 प्रतिशत जीएसटी के दायरे में आते हैं। उनके टैक्स सिस्टम में बदलाव किया गया है।
आम, खाखरा और आयुर्वेदिक दवाओं पर जीएसटी की दर 12 से 5 फीसदी की गई है।
स्टेशनरी के कई सामान पर जीएसटी 28 से 18 प्रतिशत कर दी गई है. हाथ से बने धागों पर जीएसटी 18 से 12 प्रतिशत कर दी गई है।
प्लेन चपाती पर जीएसटी 12 से 5 प्रतिशत कर दी गई है।
अनब्रैंडेड नमकीन पर 5 प्रतिशत जीएसटी की दर लागू होगी।
डीजल इंजन के पार्ट्स पर अब 18 फीसदी जीएसटी लगेगी. साथ ही दरी (कारपेट) पर जीएसटी की दर को 12 से 5 प्रतिशत कर दिया गया है।
अब एक ही फॉर्म से जीएसटी फाइल की जा सकेगी।

07 October, 2017
Share |