Leading Hindi News Portal from Central India
विदेश

भारत और रूस के बीच हुए 5 समझौते, कुडनकुलम संयंत्र पर बनी बात

नई दिल्ली : नरेंद्र मोदी बुधवार को रूस पहुंचे, मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से सेंट पीट्सबर्ग में मुलाकात की। मोदी-पुतिन की वार्ता के बाद जारी विजन डॉक्यूमेंट में कहा गया, 'हम कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र की इकाई 5 और 6 के लिए जनरल फ्रेमवर्क एग्रीमेंट और क्रेडिट प्रोटोकॉल को अंतिम रूप दिये जाने का स्वागत करते हैं।' पीएम मोदी ने बताया कि दोनों देशों ने 5 बड़े मुद्दों पर संयुक्त हस्ताक्षर किए। इस मौके पर पीएम मोदी ने बताया कि रूस के साथ भारत का रिश्ता आदर का है और आगे भी रहेगा। रियेक्टरों का निर्माण भारतीय परमाणु उर्जा निगम लिमिटेड, एनपीसीआईएल और रूस के परमाणु संस्थानों की नियामक इकाई रोसाटॉम की सहायक कंपनी एस्टोमस्ट्रॉयेएक्सपोर्ट करेंगे। दोनों इकाइयों की उत्पादन क्षमता एक-एक हजार मेगावाट है। अपनी मुलाकात की शुरूआत में मोदी ने पुतिन से कहा कि वह प्रधानमंत्री के रूप में पुतिन के गृहनगर आकर खुश हैं। पहली बार रूस में भारत-रूस शिखरवार्ता मॉस्को से बाहर सेंट पीटर्सबर्ग में हो रही है।
प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘सामान्य तौर पर अंतरराष्ट्रीय संबंध उपर नीचे होते रहते हैं लेकिन इतिहास गवाह है कि भारत-रूस संबंधों में कोई उतार चढ़ाव नहीं आया।’’ मोदी ने भारत को शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की सदस्यता दिलाने में अहम भूमिका निभाने के लिए रूस के राष्ट्रपति का आभार व्यक्त किया।

01 June, 2017
Share |