Leading Hindi News Portal from Central India
विदेश

अमेरिका ने सीरिया पर दागी मिसाइल

सीरिया में नागरिकों पर किए गए ‘‘बर्बर’’ रासायनिक हमले के जवाब में अमेरिका ने सीरिया के एयरबेस पर आज एक बड़ा सैन्य हमला बोला। रासायनिक हमले के पीछे कथित तौर पर युद्धरत राष्ट्रपति बशर अल असद के शासन का हाथ है। वहीं राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सभी ‘‘सदस्य देशों’’ से अपील की कि वे युद्धप्रभावित देश में मचे ‘‘रक्तपात’’ को खत्म करने के लिए अमेरिका के साथ आएं।
अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप के आदेशों पर, अमेरिकी युद्धपोतों ने सीरिया की सरकार के एयरबेस पर 50-60 टोमाहॉक क्रूज मिसाइलें दागीं। यह वही एयरबेस है, जहां रासायनिक हमला करने वाले युद्धक विमान खड़े थे। मार-ए-लागो रिजॉर्ट में ट्रंप ने कहा कि उन्होंने उस सीरियाई एयरबेस को निशाना बनाकर हमला करने के आदेश दिए थे, जहां से रासायनिक हमला बोला गया था। ट्रंप ने इसी आवास में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात की।
सीरिया पर हमले का यह आदेश ट्रंप के रूख में नाटकीय बदलाव दिखाता है। चुनाव प्रचार के दौरान ट्रंप ने कहा था कि वह असद के शासन के खिलाफ सैन्य कार्रवाई में अमेरिका के हिस्सा लेने के खिलाफ हैं। ये मिसाइलें अमेरिकी युद्धपोतों से तड़के तीन बजकर 45 मिनट पर दागी गईं। इनके जरिए एयरबेस की हवाई पट्टियों, हैंगरों, नियंत्रण टावर और युद्धक सामग्री वाले क्षेत्रों को निशाना बनाया गया।

07 April, 2017
Share |