Leading Hindi News Portal from Central India
जबलपुर

बीजेपी सरकार का अनुसूचित-जाति विकास कार्ड,संत रविदास का जीवन पाठ स्कूली पाठ्यक्रम में होगा शामिल


सागर। प्रदेश में अगले साल होने वाले चुनाव से पहले शिवराज सरकार संत रविदास के बहाे अनूसूचित जाति को साधने की कोशिश की है। इसके लिए सागर में आयोजित संत रविदास महाकुंभ में सीम ने कई बड़े एेलान किए। सीएम ने संत रविदास जी के जीवन पर आधारित पाठ स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने और अगले तीन साल में अनुसूचित-जाति के विकास और कल्याण पर 50 हजार करोड़ खर्च किये जाने का एेलान किया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट में इस साल अनुसूचित-जाति के कल्याण पर 16 हजार 381 करोड़ का प्रावधान किया गया है। उन्होंने बताया कि अगले दो साल में शहरी क्षेत्र में 5 लाख और ग्रामीण क्षेत्र में 10 लाख मकान बनाकर गरीबों को दिये जायेंगे। सागर जिले में 40 हजार मकान इसी वर्ष बनेंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हर व्यक्ति को रहने के लिये जमीन और घर उपलब्ध करवाये जायेंगे। जो जहाँ रह रहा है, उसे वहाँ का पट्टा दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि अनुसूचित-जाति वर्ग के छात्र-छात्राओं को शिक्षण के लिये पर्याप्त व्यवस्थाएँ सरकार ने की हैं। छात्रवृत्ति के साथ छात्रावास और आश्रम भी बनाये गये हैं। विदेशों में अध्ययन के लिये विद्यार्थियों का शिक्षण शुल्क भी सरकार भर रही है। उन्होंने कहा कि कोई भी अनुसूचित-जाति का विद्यार्थी धन की कमी के कारण शिक्षा से वंचित नहीं रहेगा। उन्होंने बताया कि 10 संभाग में ज्ञानोदय विद्यालय खोले गये हैं। दिल्ली में यूपीएससी की कोचिंग में प्रवेश लेने पर रहने की व्यवस्था भी सरकार करेगी।
मुख्यमंत्री ने संत रविदास के व्यक्तित्व और कृतित्व का उल्लेख करते हुए कहा कि वे सभी समाज के संत हैं। वे सामाजिक परिवर्तन के वाहक हैं। उनका जीवन हम सभी के लिये अनुकरणीय है।

04 March, 2017
Share |